First love Part -1|sad story in Hindi love

sad story in Hindi love

Tags: love sad story in Hindi love

आज एक दिसंबर है। एक साल हो गए मुझे उससे बात किए हुए। लेकिन उसे एक पल के लिए भी मैं नहीं भूला और ना ही भूला यहां आना। जहां हम अक्सर आया करते थे। यहां से ढलता हुआ सूरज एकदम साफ दिखाई पड़ता है। जब भी मैं गांव में होता तो हर शाम यहां मिलते थे।प्रतीक सूरज का ढलना कितना खूबसूरत होता है ना। वह जब ऐसा कहती तो मैं मुस्कुराते हुए धीमे से कहता है बहुत। लेकिन सच कहूं तो मुझे अब ढलती शामे अखरती है। बुरी बहुत बुरी लगती हैं। वो जो मेरे पास मेरे साथ नहीं है।जो मेरी सबसे अच्छी दोस्त थी मेरी प्यार थी अदिति।

Tags: love sad story in hindi love

जब भी अपनी आंखें बंद करता हूं तो सबसे पहले अदिति का मुस्कुराता हुआ चेहरा ही नजर आता है. कभी-कभी तो इतनी याद आने लगती है की आंखें बिना इजाजत के ही टपकने लगती है।”प्रतीक I love you yaar अब मान भी जा कब तक बात नहीं करोगे”यह उसका आखरी voice message था। उस दिन पहली बार उससे इतना नाराज हुआ था मैं, उसकी लाख मिन्नतो के बाद भी कहां माना था। और जब माना तो वह रूठ चुकी थी मुझसे हमेशा के लिए। Tags: love sad story in hindi love

Sad story in Hindi love

मैं हमेशा चुपचाप रहने वाला एक शांत लड़का था। पापा बाहर नौकरी करते थे और मैं अपने भाई और मां के साथ गांव में रहता था। चाचा का अपने स्कूल का था तो हम वहीं पढ़ते थे। बहुत लंबा और सुनसान रास्ता हुआ करता था जिस पर चलकर मैं और अदिति घर से स्कूल स्कूल से घर जाया करते थे। हम दोनों एक ही गांव में रहने वाले थे। मेरे चुपचाप रहने की आदत से मेरा स्कूल में कोई दोस्त नहीं था। लेकिन अदिति काफी कम समय में मेरी सबसे अच्छी दोस्त बन गई थी। मैं ज्यादा बात नहीं करता था लेकिन अदिति 1 सेकंड भी चुप नहीं रहती।Tags: love sad story in hindi love

क्लास की हर गॉसिप उसके पास रहती थी कौन कहां क्या कर रहा है, किसका किसके साथ चक्कर चल रहा है सब पता होता था उसे। लेकिन मुझे उसकी बातें सुनना बहुत अच्छा लगता था वह सबसे अलग थी। हर समय अपनी 2 लंबी चोटियों को फिरकी की तरफ घूम आती रहती।  बिन बात के जोर जोर से सारा दांत दिखा कर कभी भी हंसने लगती|गुजरता वक्त मुझे और अदिति को और करीब लाता रहा।12th exam हो चुका था। और  आगे की पढ़ाई के लिए मुझे दिल्ली जाना था।Tags: love sad story in hindi love

Sad story in Hindi love

दिल्ली जाने को लेकर पहले तो मुझे बहुत सहज था लेकिन जैसे-जैसे जाने की तारीख नजदीक आ रही थी मुझे डर लग रहा था पता नहीं क्यों। शायद पहली बार घर से दूर जाने का डर हो मां से अलग होने का डर हो या आदिति से पता नहीं क्या था । मैंने आदिति को फोन पर दिल्ली वाली बात बताई तो उसका बस लाइन में जवाब था “अच्छा है”। मैं आगे कुछ नहीं कहा पाया मेरी यह कमजोरी है कि मैं अपने fealings को express नहीं कर पाता हूं। जाने से 1 दिन पहले मैं और आदिति एक पार्क में मिले।Tags: love sad story in hindi love

अदिति मुझसे नजरें चुराए एकदम चुपचाप बैठी हुई थी मानो मुझसे अगर नजरे मिलाई तो उसकी नजरें बोल देंगी मुझसे मत जाओ। पर उसकी खामोशी सब कुछ बयां कर रही थी। मैंने उसके हाथों पर हाथ रखा तभी वह बोल पड़ी I love you pratik. मैंने उसे गले से लगा लिया और बोला मैं भी तुमसे बहुत प्यार करता हूं अदिति। हम दोनों यूं ही काफी देर तक लिपट कर सिसकते रहे थे।Tags: love sad story in hindi love

Instagram posts

अगली सुबह जब मैं जगा तो घर का माहौल ही अलग था मां ने पूरे घर को सर के उठा रखा था।कोई मेरे कपड़े इस्त्री कर रहा था कोई मेरा सामान पैक कर रहा था। कोई मेरे लिए खाना पैक कर रहा था। सब मेरे काम में ही व्यस्त थे।

post_author; ?>

1 thought on “First love Part -1|sad story in Hindi love”

Leave a Comment

Copy link
Powered by Social Snap