पहेली सी एक लड़की part-1। love story hindi

sad love story hindi

TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani

ढलती शाम का वक्त था। थकी हुई मुसाफिर की तरह हाफ्ती हुई मेरी ट्रेन मेरे शहर इंदौर पहुंची थी। मैं अपने जूते के फीते बांध कर सामान समेट कर उतरने वालों की भीड़ छटने का इंतजार करने लगा। सबको निकलने की ऐसी जल्दी थीं जैसे घंटी बजते ही बच्चो को class से निकलने की होती है।जब भीड़ थोड़ी कम हो गई मैंने अपना बैग टांगा और बाहर चला आया। 8 साल बाद मैं अपने शहर इंदौर लौटा था। मेरे दिल में अजीब सी उथल-पुथल मची हुई थी। स्टेशन से बाहर निकलते ही अजनबियत का घेरा मेरे पास सिमट आया।

TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani

इन सालों में शहर काफ़ी बदल गया था। साफ-सुथरी चौड़ी सड़कें ऊंची ऊंची इमारतें shopping malls. मैं टैक्सी स्टैंड में लगे टैक्सी में बैठ गया। कृष्णा नगर मैंने कहा और टैक्सी सड़क पर दौड़ने लगी। स्टेशन से गांधी चौक, वहां से दाएं जाकर हनुमान मंदिर, वहां से बाय राजू की दुकान और ठीक सामने मेरा घर। शहर की हर गली किसी नक्शे की तरह मेरे दिमाग में छपी हुई थी। इन्हीं जानी पहचानी गलियों में मैं एक अनजान रास्ते पर चल रहा था। पुरानी यादों का बवंडर मुझे खींचे ले जा रहा था और ना चाहते हुए भी मेरी हर याद बस उस एक चेहरे पर जाके रुक जाती थी।

TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani

वो पूनम के चांद की तरह छन से मेरे सामने आ गई थी। सफेद सलवार कमीज, कमर तक लंबे बाल जिसकी एक लट बार-बार चेहरे को छूने की कोशिश कर रही थी। उसकी आंखों में जरूर कोई चुंबक रहा होगा। गाय जैसी बड़ी-बड़ी आंखें, आंखों में जमाने भर का कौतूहल था।”पूनम” यही नाम बताया था शर्मा अंकल ने उसका। हमारे पड़ोसी शर्मा अंकल के किसी दोस्त की बेटी थी वो।M.A करने शहर आई और दो साल उन्हीं के घर रुकने वाली थी।”रवि के लंदन जाने के बाद घर काफी सुना हो गया था लेकिन इसके आने से फिर से रौनक आ गई हैं” शर्मा अंकल ने पूनम के गाल पर प्यार से चपत लगाते हुए कहा।

TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani

TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani

TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani

वो मुस्कुरा दी, लगा जैसे किसी ने मोतिया बिखेर दिए हो। मैं उसको मुस्कुराते हुए देखते रहना चाहता था। लेकिन 3 महीने बाद होने वाले सिविल सर्विसेज के exam का ध्यान आया और मैं उठ के छत पर बने अपने कमरे में चल दिया। मेरी चारपाई पर किताबों का ढेर आराम फरमा रहा था। मैंने चारपाई पर बैठ कर किताबों के ढेर से एक किताब निकाला और फिजिक्स का वो चैप्टर फिर खोल लिया जो पिछले तीन दिनों से रोज खुलता और बंद होता था। Question 1 का उत्तर a, Question 2 का उत्तर c, Question 3 का उत्तर b मैं बिना सवाल पढ़े आंसरशीट देखकर टिक लगा रहा था।

TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani

काश एग्जाम में भी इन सवालों के सही जवाब प्रश्नपत्र के पीछे के पन्ने पे दिए जाते multiple choice में से अपने लिए सही चुनाव करना ना मुझे एग्जाम में आया था और ना ही असल जिंदगी में आया था। संगीत सीखना चाहता था ,पर फिजिक्स के फार्मूले सीखने लगा, स्टेज पर खड़ा होकर गाना चाहता था,मगर क्लासरूम में सवाल हल करता रहा।अपनी नई दुनिया बनाना चाहता था पर अपने घरवालों के घर में तक जगह नहीं बना पाया था। पिछले तीन सालों से मैं अपने पिताजी के मर्ज़ी के मुताबिक़ सिविल सर्विसेज की एक्जाम की तैयारी कर रहा था।

TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani

कई परीक्षाएं दे चुका था और हर बार फेल होता था कई बार तो लगता था कि failure शब्द मेरे लिए ही बना हैं।रात के 11:30 बज रहे थे मैं अपनी कुर्सी और मेज खिड़की की तरफ खिसकाई और पूरा खोला और पढने बैठ गया। मैंन आँखे बंद की और हवाओं को अपने चेहरे पर महसूस करने लगा।ठीक उसी वक़्त पापा पहुंच गए मूझे आँखे बंद किए हुए देख कर शायद बल पर गया था। मैंने जैसे ही आँखे खोली पापा ने अपने चेहरे और हाव्-भाव को जबरदस्ती सामान्य किया और बोले तुम तो पढोगे न अभी सोते समय बाहर की लाइट बंद कर देना।

TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani

sad love story hindi

TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani

ये उन्होंने नया तरीका ढूंढा था मेरे सोने का समय तय करने के लिये। जिस दिन लाइट जल्दी बंद हो जाती अगले दिन वो एक न एक बार जरूर जता देते की मैंने जल्दी सोकर कितना बड़ा अपराध किया हैं।पापा के जाने के बाद मैंने फिर से आँखें बंद कर ली।मैं खामोशी की आवाज़ सुन ही रहा था कि बाहर से आँखों में एक फ्लैश सा चमका।मैंने घबरा के आँखें खोली शायद शर्मा जी के बेटे रवि के कमरे की लाइट जली हुई थीं।रवि का कमरा मेरे कमरे के ठीक सामने था।10वी क्लास में शर्मा जी ने रवि के लिए छत पर एक कमरा बनवाया था।

TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani

ताकि घरवालों के आवाज़ से उसकी पढ़ाई डिस्टर्ब ना हो, देखा-देखी पापा ने भी ऐसा ही किया।हम दोनों के कमरे के बीच सिर्फ़ दो फ़िट रेल्लिंग का फासला था और हम दोनों रात को पढ़ने के बजाए लूडो खेलने में लग जाते थे।लकिन रवि के जाने के बाद से तो ये कमरा बंद ही रहता था।मैं हैरानी से उसी ओर देख रहा था कि तभी कमरे की खिड़की खुली।चांदनी से नहाई पूनम खिड़की के उस पार खड़ी थी।पूनम ने जूरे में कसे अपने बाल खोले और उन्हें हवा में लहराने के लिए छोड़ दिया।फिर खिड़की के ग्रिल के सहारे मुस्कुराती रही।

TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani


Instagram posts


TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani

न जाने कितनी देर वो युहीं खड़ी रही,न जाने कितनी देर मैं उसको यूहीं देखता रहा,न जाने कितनी देर वक्त युहीं रुक रहा।फ़िर उसकी नज़र मुझ पड़ी और वो झेप गई, झेप मैं भी गया।उसने जल्दी से ख़ुदको छुपा लेना चाहा।और खिड़की बंद करते-करते वो एक पल को रुकी और फिर धीरे से मुस्कुराई और जवाब में मैं भी मुस्कुराया, फिर खिड़की बंद हो गई।कह नहीं सकता मैं कि उस मुस्कान में क्या था पर मेरी सारी तकलीफ़े एक पल में हवा हो गई।मेरा दिल एक सूखे पते के जैसे हल्का हो गया।पढ़ने में मन उसके बाद भी नहीं लगा पर अब ना पढ़ने का अपराधबोध नही था।

TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani

उस रात मुझकों नींद नहीं आईं पहली बार किसी को होठों के साथ-साथ आंखों से भी मुस्कुराते हुए देखा था मैंने। और मुझे पता ही नहीं चला कब ये मुस्कुराहट मेरे बेरंग जिंदगी का नूर बन गई। पूनम और मेरे बीच सिर्फ 20 कदमों और 2 फुट ऊंची रेलिंग थी पर हम दोनों के बीच सदियों का फासला था।वो फासला जिस को पार करके उसके पास जाने की ना तो मुझ में ताब थी, न हीं हिम्मत। 2 महीने हो चुके थे पर हमारी पहचान बल्ब की रोशनी में शीशे पर उभरने वाली उसकी परछाई और कभी कभी एक दूसरे को देख कर मुस्कुरा देने से आगे नहीं बढ़ पाई थी।

TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani

एक रोज देर रात तक पूनम के कमरे की लाइट नहीं जली। मैंने मेज पर रखी अलार्म घड़ी पर नजर डाला 12:00 बज चुके थे। रोज 11:00 बजते बजते पूनम कमरे में आ जाती थी। मैं फिक्र से घिरा हुआ अपने बिस्तर पर लेट गया।जरा सी आहट होती तो मुझे लगता कि पूनम ही हैं और मैं झट से उठ कर खिड़की के पास चला जाता,लेकिन पूनम के कमरे की लाइट नहीं जली। फिर अगली रात,उसके अगली रात और उसके भी अगली रात पूनम के कमरे में अंधेरा छाया रहा।उसके कमरे का अंधेरा मेरे अंदर तक बैठ चुका था।

sad love story hindi

TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani

दिन गुजर रहे थे और मेरा दिल हर दिन एक नई तूफान से घिरा हुआ मिलता। सिविल सर्विसेस के एक्जाम के दिन भी काफ़ी नज़दीक आते जा रहे थे लेकिन पढ़ाई से मेरा दूर दूर तक कोई नाता नहीं था,अब तो ना पढ़ने के लिए मेरे पास एक बहाना भी था “पूनम”।हफ्ते भर बाद एक रात मैं बिस्तर पे करवट बदल रहा था कि तभी बाहर खिड़की पे रौशनी ने दस्तक दी और झप से बुझ गई “मेरा वहम होगा” मैंने सोचा पर फ़्लैश फिर चमका और तब तक चमकता रहा जबतक मैं उठ के खिड़की के पास नहीं पहुंच गया।

also read Bestfriend a love story

इतने दिन बाद आज फिर पूनम की रात थीं पूनम अपने खिड़की पे खड़े होके स्विच ऑन ऑफ कर रही थी।मुझे खिड़की पे खड़ा हुआ देखा तो उसने हाथ स्विच से हटा लिया और मुस्कुरा दी। उस रोज़ इशारों की एक नई भाषा बना ली थी हम दोनों ने।हम दोनों खमोश खड़े थे और दिल बाते कर रहा था। उसके दिल ने पूछा”कैसे हो”?”तुम कहां चली गई थी?”मेरे दिल ने कहा।मुझको याद किया वो शरारत से मुस्कुराई।तुम बहुत सुंदर लग रही हो मैंने कहा।उसने शरमा के लाइट बंद करली। पूनम और मेरी मुलाक़ात अबतक खिड़कियों के दायरे में ही सिमटी थी।

TAGS- sad love story hindi, Hindi mein kahani

ऐसा नहीं था कि हम दोनों को मुलाक़ात के मौके नहीं मिलते थे। पड़ोसी थे हम हमारी छते एक दूसरे से जुड़ी हुई थी। मैं चाहता तो एक छलांग मार के उसके कमरे के पास पहुंच जाता पर गुपचुप चोरी छुपी मुलाक़ात का अपना एक अलग ही मज़ा था। हमदोनों एक दूसरे का हाथ थामे प्यार की अजनबी डगर पर साथ चल चुके थे।

Next part is coming tomorrow,keep supporting

post_author; ?>

Leave a Comment

Copy link
Powered by Social Snap