पहेली सी एक लड़की part-1। love story hindi

20200623 153304 0000

ढलती शाम का वक्त था। थकी हुई मुसाफिर की तरह हाफ्ती हुई मेरी ट्रेन मेरे शहर इंदौर पहुंची थी। मैं अपने जूते के फीते बांध कर सामान समेट कर उतरने वालों की भीड़ छटने का इंतजार करने लगा।